Loading...

#mahashivratri : जानिए ! इस साल की शिवरात्री शिव भक्तों के लिए क्यों है सबसे ख़ास I India Puran

महाशिवरात्रि (बोलचाल में शिवरात्रि) हिन्दुओं का एक प्रमुख त्यौहार है। यह भगवान शिव का प्रमुख पर्व है।फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी को शिवरात्रि पर्व मनाया जाता है। माना जाता है कि सृष्टि ...

माल्लिकर्जुन ज्योतिर्लिंग : इस शिवलिंग के दर्शन से दूर होते हैं दुर्भाग्य I India Puran

आन्ध्र प्रदेश के कृष्णा ज़िले में कृष्णा नदी के तट पर श्रीशैल पर्वत पर श्रीमल्लिकार्जुन विराजमान हैं। इसे दक्षिण का कैलाश कहते हैं। अनेक धर्मग्रन्थों में इस स्थान की महिमा बतायी गई...

काशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग : इस शिवलिंग के दर्शन से होती है मोक्ष की प्राप्ति I India Puran

काशी विश्वनाथ मंदिर बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है। यह मंदिर पिछले कई हजारों वर्षों से वाराणसी में स्थित है। काशी विश्‍वनाथ मंदिर का हिंदू धर्म में एक विशिष्‍ट स्‍थान है। ऐसा मान...

सोमेश्वर ज्योतिर्लिंग : सोमेश्वर कुंड में नहाने से धुल जाते हैं सारे पाप

गुजरात के सौराष्ट्र क्षेत्र में सोमनाथ का मंदिर स्थित है .इस मंदिर के वैभव का आलम कभी ये था कि इस मंदिर का घंटा 200 मन शुद्ध सोने का हुआ करता था. मंदिर के 56 खम्भों पर हीरे , मोती,...

ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग : जानिये क्यों इसके दर्शन के बिना सारे तीर्थ अधूरे हैं I India Puran

ओंकारेश्वर भगवान शिव के बारह ज्योतिर्लिंगओं में से एक है। यह मध्यप्रदेश के खंडवा के मोरटक्का गांव से लगभग 12 मील (20 कि॰मी॰) दूर बसा है। यह द्वीप हिन्दू पवित्र चिन्ह ॐ के आकार में ...

महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग : भस्म लगाने से सारे पाप हो जाते हैं भस्म I India Puran

पुरानों में 12 ज्योतिर्लिंगों के बारे में बताया गाया है .आइये जानते हैं महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग के बारे मेंश्री महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग मध्य प्रदेश के उज्जैन जनपद में अवस्थित है।...

आइए जानते हैं कैसे बनते हैं नागा साधु

कुंभ में शामिल होने वाले 13 अखाड़ों में से सबसे ज्यादा नागा साधु जूना अखाड़े से बनाए जाते हैं. नागा साधु बनाने से पहले उन्हें कई परीक्षाओं का सामना करना पड़ता है. उनकी और उनके पूरे...

#makarsankranti2019: जानिये ! इस साल क्यों दो दिन मनाया जाएगा मकर संक्रांति I India Puran

हिंदू धर्म में मकर संक्रांति का त्योहार काफी महत्वपूर्ण है. इस दिन स्नान दान का काफी महत्व है. अमूमन यह त्योहार खरमास के बाद 14 जनवरी को मनाया जाता है. लेकिन पिछले कई सालों से हिंद...

#kumbh2019: जानिए ! प्रयाग का सभी तीर्थों में विशेष महत्व क्यों है I

दो नदियों के मिलने को संगम जरूर कहते हैं, लेकिन प्रयाग नहीं। प्रयाग 'प्र' और 'याग' शब्दों को मिलाकर बनाया गया है। जानकार बताते हैं कि यहां 'प्र' का अर्थ ‘प्रकृष्ट’ होता है यानी तेज...

जब भगवान् शिव ने मां गंगा का घमंड चूर-चूर कर दिया

गंगा को शास्त्रों में देव नदी कहा गया है। इस नदी को पृथ्वी पर लाने का काम महाराज भगीरथ ने किया था। महाराज भगीरथ की तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने भगवान विष्णु के चरण से निकलने...